राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल (R.S.O.S.) की शिक्षा प्रणाली!

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 87
Joined: Wed Nov 15, 2017 1:21 pm
Full Name: Site Administrator
Contact:

राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल (R.S.O.S.) की शिक्षा प्रणाली!

Post: # 247Post admin
Mon Oct 08, 2018 1:31 pm

राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल (R.S.O.S.) की शिक्षा प्रणाली!
RSOS_ Logo.jpg
RSOS_ Logo.jpg (20.31 KiB) Viewed 2438 times
परिचय -
राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल की स्थापना राजस्थान संस्था रजिस्ट्रीकरण 1958 (राजस्थान अधिनियम संख्या 28/1958) द्वारा पंजीकरण क्रमांक 741/जयपुर/2004-05 दिनांक 21.032005 के तहत की गई है। माध्यमिक शिक्षा के सार्वजनीकरण, औपचारिक शिक्षा से वंचितों तथा जिन अभ्यर्थियों की किसी कारणवश विद्यालयी शिक्षा बीच में ही अधूरी रह गयी उन्हें राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल में पंजीयन 1 जुलाई से राज्य भर के 472 सन्दर्भ केंद्रों पर करवाया जा सकता है। “माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्तर की शिक्षा प्रदान करना” ही राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल का उद्देश्य है।

राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल की विशेषताएँ -
पाठ्यक्रम की सरलता एवं शिक्षा की सहजता के साथ-साथ परीक्षा का लचीलापन स्टेट ओपन स्कूल की विशेषता है। तनावमुक्त होकर अभ्यर्थी अपनी सुविधा अनुसार परीक्षा उत्तीर्ण कर सकता है। ओपन स्कूल से जुड़कर अभ्यर्थी अपने ज्ञान एवं अनुभव का सुदृढ़ीकरण व संवर्द्धन करता है। उसके ज्ञान का प्रमाणीकरण होने पर जहाँ आत्म सन्तोष मिलता है! वहीं आत्मविश्वास में भी वृद्धि होती है।

ऑन लाइन पंजीयन -
अभ्यर्थी को राज्य के 472 सन्दर्भ केन्द्रों पर स्ट्रीम-1 एवं स्ट्रीम-2 में अपना पंजीयन निर्धारित तिथियों में ऑन लाइन करवाते समय आवश्यक मूल दस्तावेज एवं छायाप्रति शुल्क सहित जमा करवाकर शुल्क की ऑन लाइन रसीद प्राप्त करना अनिवार्य है।

आयु सीमा एवं प्रवेश योग्यता -
प्रवेश के लिए कोई अधिकतम आयु सीमा नहीं है। माध्यमिक पाठ्यक्रम में नामांकन के लिए निर्धारित न्यूनतम आयु 14 वर्ष और उच्च माध्यमिक पाठ्यक्रम के लिए कक्षा 10वीं उत्तीर्ण तथा न्यूनतम आयु 15 वर्ष होनी चाहिए!

विषय चयन -
औपचारिक शिक्षा पद्धति के विपरीत यहाँ विषय-चयन की स्वतंत्रता है। अभ्यर्थी अपनी
आवश्यकतानुसार विषयों का चयन कर सकता है। हिन्दी अथवा अंग्रेजी दोनों में से किसी भी एक माध्यम से अध्ययन व परीक्षा की व्यवस्था है। माध्यमिक पाठ्यक्रम के 17 विषयों में से कोई भी 5 विषय एवं उच्च माध्यमिक पाठयक्रम के 21 विषयों में से कोई भी 5 विषयों के चयन करने की सुविधा है। पंजीयन के समय 1 अथवा 2 अतिरिक्त विषयों का चयन भी कर सकते हैं। अध्ययन सामग्री ( Study Material) www.education.rajasthan.gov.in/rsos एवम www.nos.org से डाउनलोड की जा सकती है। (सिन्धी विषय को छोडकर)

स्ट्रीम 2 -
स्ट्रीम 2 मान्यता प्राप्त बोर्डों( सूचीनुसार 74) के अनुत्तीर्ण अभ्यर्थी अक्टूबर-नवम्बर की माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक परीक्षा में प्रविष्ट हो सकते हैं। अभ्यर्थी टी.ओ.सी. के लिए भी पात्र है।

क्रेडिट स्थानान्तरण (टी.ओ.सी.) -
मान्यता प्राप्त 73 बोर्डो (सूचीनुसार) से वर्ष 2014 से 2018 के अनुत्तीर्ण अभ्यर्थी अधिकतम उत्तीर्ण दो विषय एवं राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल जयपुर से सत्र 2005-06 से 2013-14 के अनुत्तीर्ण अभ्यर्थी उत्तीर्ण अधिकतम चार विषय में क्रेडिट स्थानान्तरण (टी.ओ.सी.) का लाभ ले सकते हैं।

व्यक्तिगत सम्पर्क कार्यक्रम -
कक्षा 10वीं एवं 12वीं (स्ट्रीम-1) के अभ्यर्थियों के अध्ययन में आने वाली समस्याओं के निराकरण हेतु विषय विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में वर्ष में एक बार 15 दिवसीय (25दिसम्बर से 8 जनवरी तक) व्यक्तिगत सम्पर्क कार्यक्रमों का आयोजन सभी सन्दर्भ केन्द्रों पर किया जाता है एवं PCP शिविर में उपस्थिति दर्ज होने पर अभ्यर्थियों को सैद्धान्तिक के पूर्णाक का 10 प्रतिशत सत्रांक देय है। प्रत्येक विषय की सैद्धान्तिक परीक्षा एवं सर्वयोग में पृथक-पृथक न्यूनतम 33% अंक प्राप्त करना अनिवार्य है। P CP शिविर में कक्षा 10वीं उत्तीर्ण पश्चात् जो अभ्यर्थी अगले वर्ष कक्षा 12वीं में आवेदन करता है ऐसे अभ्यर्थी 4 विषयों की PCP शिविर उसी वर्ष एवं शेष 1 विषय की CP शिविर जिस वर्ष आवेदन करता है उसी वर्ष PCP शिविर में शामिल होगा।

सत्रांक -
कक्षा 10वीं एवं 12वीं (स्ट्रीम-1) के अभ्यर्थियों के लिये सैद्धान्तिक के पूर्णाक का 10% है। अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण होने के लिए प्रत्येक विषय की सैद्धान्तिक परीक्षा एवं सर्व योग में न्यूनतम पृथक-पृथक 33% अंक प्राप्त करना अनिवार्य है। सत्र 2018-19 से सत्रांक को उत्तीर्णाक में शामिल किया जाएगा।

आंशिक प्रवेश -
अभ्यर्थी जो पूर्व में किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड विश्वविद्यालय से माध्यमिक/उच्च माध्यमिक या कोई अन्य समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण कर चुका है, वह शैक्षिक योग्यता बढ़ाने के लिए अन्य विषयों में अपनी पंसद के अनुसार एक या एक से अधिक विषयों (अधिकतम चार विषय) में पंजीयन करवा सकताहै। अभ्यर्थी को उत्तीर्ण होने पर केवल अंकतालिका ही दी जाती है उन्हें प्रमाणपत्र नहीं दिया जाता है। आंशिक प्रवेश में भी अभ्यर्थी को 5 वर्ष तक 9 अवसर दिए जाते है।

अंक सुधार -
राजस्थान स्टेट ओपन स्कूलजयपुर एवं माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान, अजमेर के सत्र 2017-18 में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को परीक्षा उत्तीर्ण होने के आगामी 1 वर्ष (सत्र 2019-20) में एक अवसर उन्नयन (Improvement) हेतु दिया जाता हैं। इसके लिए अभ्यर्थी पूर्व उत्तीर्ण की मूल अंकतालिका तथा मूल माइग्रेशन/टी.सी. आवेदन पत्र के साथ संलग्न करेंगे। अभ्यर्थी पूर्व में उत्तीर्ण परीक्षा के समस्त विषयों में पंजीयन एवं अपनी पंसद के अनुसार एक या एक से अधिक विषयों (अधिकतम सात विषय) में परीक्षा दे सकता है।

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (ITI) कोर्स -
नेशनल कौंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग (NCVT) से मान्यता प्राप्त पाठ्यक्रम का प्रथम वर्ष (प्रथम/द्वितीय सेमेस्टर पूर्ण रूप से उत्तीर्ण) उत्तीर्ण स्कूल पश्चात् अभ्यर्थी राजस्थान स्टेट ओपन से कक्षा 10वीं के अंग्रेजी एवं हिन्दी विषय तथा कक्षा 12वीं के केवल अंग्रेजी विषय की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर ही समकक्ष कक्षा में उत्तीर्ण माना जायेगा। समकक्षता उसी स्थिति में देय है जब हिंदी व अंग्रेजी की परीक्षा कक्षा 10वीं व 12वीं में तथा आईटीआईके उत्तीर्ण वर्ष के साथ अथवा उसके बाद उत्तीर्ण की हो। आईटीआईवाले अभ्यर्थियों को केवल ही अंकतालिका ही दी जाएगी यदि आईटीआईका माइग्रेशन जमा कराते है तो उस स्थिति में माइग्रेशन भी दिया जा सकेगा।

प्रवेश की वैधता -
अभ्यर्थी का प्रवेश 5 वर्षों तक मान्य रहेगा। इस अवधि के दौरान माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक स्तर की सार्वजनिक परीक्षा के अधिकतम नौ (9) अवसर दिये जाते हैं। वर्ष में दो बार परीक्षाओं (मार्च-मई एवं अक्टूबर-नवम्बर) का आयोजन किया जाता है।

प्रोत्साहन पुरस्कार -
राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल ,जयपुर से कक्षा 10वीं एवं 12वीं में राज्य स्तर पर सर्वाधिक अंक (न्यूनतम प्राप्तांक 60 प्रतिशत) प्राप्त करने वाले 4 अभ्यर्थियों को मीरा/एकलव्य पुरस्कार स्वरूप 11000 रु. मय प्रमाण-पत्र एवं जिला स्तर पर सर्वाधिक अंक (न्यूनतम प्राप्तांक 60 प्रतिशत) प्राप्त करने वाले 4 अभ्यर्थियों को मीरा/एकलव्य पुरस्कार स्वरूप 3100 रु. मय प्रमाण-पत्र दिये जाते हैं।
राज्य स्तर पर पुरस्कार प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों के स्थान पर उनके गृह जिलों के द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों (न्यूनतम प्राप्तांक 60 प्रतिशत) को जिला स्तर पर मीरा-एकलव्य पुरस्कार दिया जाता है।
प्रथम प्रयास में सम्पूर्ण विषयों में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थी ही उक्त पुरस्कारों के लिए पात्र है। क्रेडिट स्थानान्तरण के के अभ्यर्थी उक्त पुरस्कारों के लिए पात्र नहीं है।

मान्यता -
राजस्थान स्टेट ओपन स्कूलजयपुर कक्षा 10वीं व 12वीं के पाठ्यक्रम एवं प्रमाण-पत्रों को भारतीय विद्यालय शिक्षा बोर्ड मण्डल (COBSE), मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) NIOS, BSER तथा अन्य राज्य बोर्डों से समकक्षता प्राप्त है। भारत सरकार के कार्मिक लोक शिकायत तथा पेंशन मंत्रालय के कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग ने राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल द्वारा जारी किये गये माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक परीक्षाओं के प्रमाण-पत्रों को उच्च अध्ययन एवं केन्द्रीय एवं राज्य सरकार के विभागों में नियुक्ति के लिए मान्य किया है।

वेबसाइट -
राजस्थान स्कूल स्टेट ओपन जयपुर की वेबसाइट: www.education.rajasthan.govin/rsos से विवरणिका ,सन्दर्भ केन्द्र, परीक्षा केन्द्र, परीक्षा समय-सारणी, परीक्षा परिणाम, अभिलेखों में संशोधन प्रपत्र आदि की जानकारी ले सकते हैं।



Post Reply